Sunday, August 14, 2022

कैसे और कब करे मशरूम की खेती तथा इसके लाभ – Mushroom farming क्या है |

spot_imgspot_imgspot_img

Mushroom farming

मशरूम शाकाहारी भोजन करने वालों के लिए एक पोषण से भरपूर आहार है | इसमे खनिज लवण,प्रोटीन,वसा,रेशा,कार्बोहाइड्रेट,ऊर्जा आदि पाए जाते है जो की मानव शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक है | मशरूम की खेती (Mushroom farming) आर्थिक तथा पोषण सुरक्षा के लिए मशरूम का उत्पादन करना बहुत ही लाभदायक माना जाता है | क्योंकि इसका उत्पादन खेती-बाड़ी के कृषि अवशेषों से होता है | इसका उत्पादन बहुत कम लागत तथा बहुत कम जगह मे सफलता पूर्वक किया जा सकता है इसलिए मशरूम की खेती (Mushroom farming) रोजगार के रूप मे एक वरदान के रूप मे उभर कर आया है |


मशरूम की खेती क्या है [ What is Mushroom farming ]

मशरूम की खेती (Mushroom farming) मे मशरूम का उत्पादन करते है | जिसमे की भरपूर मात्रा मे पोषक तत्व पाए जाते है जैसे – खनिज,लवण,प्रोटीन,वसा, रेशा, कार्बोहाइड्रेट,ऊर्जा आदि इसकी खेती करने के लिए ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं होती है इसकी खेती खेती-बाड़ी के कृषि अवशेषों से आसानी से कर सकते है | हमारे खेतों से अनेक प्रकार के कृषि अवशेष की प्राप्ति होती है जिसका उपयोग करके आप मशरूम का उत्पादन ले सकते है | आर्थिक तथा पोषण सुरक्षा के लिए मशरूम का उत्पादन करना बहुत ही लाभदायक माना जाता है | क्योंकि इसका उत्पादन बहुत कम लागत तथा बहुत कम जगह मे सफलता पूर्वक किया जा सकता है |


कौन से मशरूम की करे खेती ? [ Which mushroom should be cultivated ? ]

इन मशरूम की खेती (Mushroom farming) की कर सकते है खेती |

  •  ऑयस्टर मशरुम (ढिंगरी मशरूम)
  • बटन मशरूम (अगैरिक बाइस्पोरस  )
  • दूधिया मशरूम 

ये भी पढे :-

 


What is Mushroom farming

ऑयस्टर मशरुम (ढिंगरी मशरूम) की उत्पादन विधि की पूरी जानकारी 

  • कृषि अवशेष पुआल या भूसे को पहले अच्छे प्रकार से 2-3 बार साफ पानी मे धो ले |
  • उसके बाद गीले भूसे को आधे-एक घंटे तक अच्छी तरह से उबाले |
  • उबलने ले बाद इसे अच्छी तरह से फैला कर ठंडा कर ले |
  • इसके बाद स्पौन को प्लास्टिक के थैले मे किनारे-किनारे पर 100 ग्राम बीज /1 केजी पुआल /भूसा को फैला दे |
  • स्पौन पर शुष्क भूसे को फैल दे |
  • इसी प्रकार से प्लास्टिक के थैले मे  15-20 छिद्र कर दे और इसे ऐसे झोपङी या कमरे मे रख दे जिसका तापमान 22-28 डिग्री सेo तथा आद्रता 80-85% हो
  • और आप इस बात का ध्यान रखे की आपकी कमरे मे सूर्य की सीधी रोशनी न आए |
  • 15-20 दिनों के बाद मशरूम का सफेद कवक जाल फैल जाएगा |
  • नमी बनाए रखने के लिए आवश्यकता के अनुसार जल का छीरकाव करते रहना चाहिए |
  •  इसके बाद 5-10 दिनों मे मशरूम की फसल तैयार हो जाएगा | अब आप इसे तोङ सकते है |

मशरूम की खेती का लाभ  [ Benefits of mushroom cultivation ]

  • इसमे कम लागत मे अधिक लाभ ले सकते है |
  • इसमे ज्यादा जमीन की भी नहीं जरूरत नहीं होती है |
  • इसकी खेती आप झोपङी या कमरे मे भी कर सकते है |
  • इसकी खेती के लिए आप खेती-बाड़ी के कृषि अवशेषों का प्रयोग कर सकते है |

निष्‍कर्ष [ Conclusions ]

मशरूम की खेती (Mushroom farming) किसानों के लिए बहुत ही उपयोगी है किसान भइयों आप खेती-बाड़ी के साथ-साथ मशरूम की खेती भी कर सकते | इसमे आपको ज्यादा लागत की भी जरूरत नहीं होती है और इसमे अच्छा मुनाफा भी होता है | और इसके लिए आपको ज्यादा कुछ की जरूरत भी नहीं होती है आप इसकी खेती खेती-बाड़ी के कृषि अवशेषों का प्रयोग करके इसकी खेती कर सकते है |


ये भी पढे :-

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

6,000FansLike
5,000SubscribersSubscribe

Categories

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !! Do\'nt Copy !!