Saturday, September 24, 2022

लेमन ग्रास की खेती कैसे करे इसके फायदे – LemonGrass क्या है |

spot_imgspot_imgspot_img
lemongrass
lemongrass

लेमन ग्रास (lemongrass) एक खुशबूदार फसल है इस फसल से हमे सिट्रल नामक तेल की प्राप्ति होती है । इस तेल में सिट्रल कंटेंट महत्तवपूर्ण होता है । सिट्रल तेल से अल्फा एनोन तथा बीटा एनोन मिल सकता है । इस फ़सल को लगाने के लिए शीतोष्ण और समशितोष्ण जलवायु की आवश्यकता होती है । इसकी खेती के लिए अधिक आद्रता और गर्म जलवायु उपयुक्त मानी जाती है। इसे किसी भी प्रकार की मिट्टी में उपजाया का सकता है । इसकी खेती गुजरात, आंध्प्रदेश, केरल, कर्नाटक इन राज्यो में अच्छी होती है । इन राज्यो में इनकी खेती करना बहुत ही लाभकारी है । इसकी खेती दक्षिण भारत और उत्तर भारत में भी कर सकते है जैसे – मधयप्रदेश, उत्तर प्रदेश,बिहार,पंजाब आदि इन सभी राज्यो में इसकी खेती कर सकते है । केवल दक्षिण इलाकों तक ही नहीं बल्कि अन्य क्षेत्रों में भी इसकी खेती सफलतापूर्वक कर सकते है | और इसका लाभ ले सकते है ।


लेमन ग्रास क्या है [ What is lemon grass ]

लेमन ग्रास (lemongrass) एक खुशबूदार फसल है इस फसल से हमे सिट्रल नामक तेल की प्राप्ति होती है । इस तेल में सिट्रल कंटेंट महत्तवपूर्ण होता है । सिट्रल तेल से अल्फा एनोन तथा बीटा एनोन मिलता है । इसकी खेती सभी राज्यो में कर सकते है । इसकी खेती बीज के माध्यम से या तो फिर इसकी खेती पौधे के कलम से भी कर सकते है । लेकिन अगर आप इसकी खेती कलम के माध्यम से करते है तब इस स्थिती में आपका कलम एक साल पुराना होना चाहिए । इससे निकलने वाली तेल की मांग भी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है | इसकी तेल की कीमत भी अच्छी होती है | इसकी तेल का उपयोग साबुन,सौंदर्य प्रसाधनों और औषधी आदि बनाने मे भी किया जाता है |


लेमन ग्रास की खेती कैसे करे [ How to cultivate lemon grass ]

लेमन ग्रास (lemongrass) की खेती बीज,पौधे के कलम से की जाती है | इस फ़सल को लगाने के लिए शीतोष्ण और समशितोष्ण जलवायु की आवश्यकता होती है । इसकी खेती के लिए अधिक आद्रता और गर्म जलवायु उपयुक्त मानी जाती है। इसकी खेती लगभग सभी प्रकार की मिट्टी मे कर सकते है | इसकी खेती के लिए दोमट उपजाऊ मिट्टी अच्छी मानी जाती है | इनकी खेती उन क्षेत्रों मे आसानी से कर सकते है | जहा कम वर्षा होती है | इसकी खेती बीज या तो फिर कलमों से कर सकते है अगर आप कलम से इसकी खेती करते है तब इस स्थिति मे आपका पौधा का कलम एक साल पुराना होना चाहिए | और आपकी कलम पूरी तरह से स्वस्थ होनी चाहिए इसमे किसी भी प्रकार की रोग नहीं होना चाहिए | अगर आप इसकी खेती बीजों के जरिए करते है तब इस स्थिति आपको सबसे पहले इसकी बीजों की नर्सरी तैयार करना होगा | इसकी नर्सरी मे पौधा 2-3 महीने मे तैयार हो जाता है | आपको इस बात का ध्यान देना चाहिए की आपकी नर्सरी के पौधों मे कम से कम पौधे मे 10 पत्तों को होना जरूरी होता है | इसमे अगर आप बीज से खेती करते है तब आपको पौध तैयार करने मे 2-3 महीने का समय लगता है | अगर आप कलमों से बुआई करते है तो आप सीधा अपनी खेतों मे कलमों की बुआई कर सकते है इससे आपका समय की बचत होता है |


लेमन ग्रास की खेती कैसे करे
लेमन ग्रास की खेती

लेमन ग्रास मे खरपतवार नियंत्रण [ Weed Control in Lemon Grass ]

लेमन ग्रास (lemongrass) की खेती मे खरपतवार नियंत्रण करने के लिए जब आप फसल की रोपाई करते है तब उसके बाद खेतों मे खरपतवार उगने लगते है इसकी खरपतवार की हाथ से निराई-गुराई करना चाहिए | लेमन ग्रास (lemongrass) की हरेक कटाई के बाद निराई-गुराई करवा देनी चाहिए | जिससे की खरपतवार हमारी फसलों को नुकशान नहीं पहुचा सके |


लेमन ग्रास की कटाई [ Lemon grass harvesting ]

लेमन ग्रास (lemongrass) की पहली कटाई बहुत ही महत्वपूर्ण होता है | इसकी पहली कटाई फसल की रोपाई के बाद 90-100 दिनों पर करनी चाहिए | लेमन ग्रास की पहली वर्ष मे 3 कटाई ले सकते है | उसके अगले वर्ष मे 5-7 कटाई ले सकते है | लेमन ग्रास मे ज्यादा कटाई मिलने से ज्यादा उत्पादकता मिलती है | लेमन ग्रास की कटाई के बाद आप इसे 12 घंटे तक धूप मे रख सकते है | उसके बाद आप मशीन के माध्यम से आप इससे तेल निकाल सकते है | इससे तेल निकालने मे लगभग 3-4 घंटे का समय लग जाता है |


लेमन ग्रास की तेल की कीमत [ Lemon Grass Oil Price ]

इसमे प्रति वर्ष 1 हेक्टेयर मे लगभग 200-300 किलोग्राम तेल की उत्पति होती है | इसकी तेल की कीमत लगभग 500 से 800 रुपये प्रति किलो होता है | इसकी कीमत बाजार भाव पर निर्भर करता है | इसकी कीमत कभी-ज्यादा तो कभी कम होती रहती है | बाजार भाव मे उतार चढ़ाव आना आम बात है | लेकिन इसकी कीमत अच्छी रहती है |


Lemon Grass

लेमन ग्रास की किस्म [ Variety of lemon grass ]

लेमन ग्रास (lemongrass) की खेती करने से पहले आपको इसके उन्नत नस्ल की किस्म को जानना बहुत जरूरी है और कौन से वातावरण के लिए कौन से नस्ल की किस्म ज्यादा उपयोगी है इसको भी जानना बहुत जरूरी है | सुगंधी बॉडी 19 किस्म को सभी राज्यों मे उत्पादन के लिए अनुकूल माना जाता है | इसकी खेती अनुकूल वातावरण के अनुसार कर सकते है | इनके अलावा निम्नलिखित किस्म की प्रजतियों का भी उत्पादन वातावरण के अनुकूल कर सकते है |

  • सुगंधी बॉडी 19
  • प्रगति 
  • प्रमान 
  • कृष्णा 
  • कावेरी 
  • आर ए एल 16 
  •  आर ए एल 48 
  • सी के बी 25 

ये भी पढे :-


लेमन ग्रास के खेती के फायदे [ Benefits of Lemon Grass Cultivation ]

  • इसकी खेती एक बार करने से आप इससे लगातार लगभग 4-5 वर्षों तक इससे उत्पादन ले सकते है | पहली वर्ष मे  3 कटाई ले सकते है | उसके अगले वर्ष मे 5-7 कटाई ले सकते है | लेमन ग्रास मे ज्यादा कटाई मिलने से ज्यादा उत्पादकता मिलती है |
  • इसकी खेती मे कम लागत मे अधिक मुनाफा कमा सकते है क्योंकि इसको एक बार फसल को लगाने के बाद इससे 4-5 वर्षों तक लगातार इससे उत्पादन ले सकते है |
  • इसका तेल बहुत ही महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इसके तेल का उपयोग साबुन,सौंदर्य प्रसाधनों और औषधी आदि बनाने मे भी किया जाता है |
  • बाजार मे इसकी तेल की कीमत अच्छी मिलती है | क्योंकि इस तरह की खेती करने वालों की संख्या बहुत कम है जिसके कारण इसकी तेल की कीमत अच्छी होती है |
  • इसकी खेती मे खरपटवारों तथा कीटो की प्रकोप कम होता है |

निष्‍कर्ष [ Conclusions ]

लेमन ग्रास (lemongrass) की खेती किसान भाइयों के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद हो सकता है | शुरुआत मे इसकी खेती मे लागत थोरी बहुत ज्यादा लगती है लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता जाता है ठिक वैसे-वैसे इसकी लागत मे कमी आती जाती है | और जैसे-जैस लेमन ग्रास की पैदावार बढ़ती जाती है तो निश्चित तौर पर आपका मुनाफा भी बढ़ता जाता है |


ये भी पढे :-

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

6,000FansLike
5,000SubscribersSubscribe

Categories

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !! Do\'nt Copy !!